चंद अशआर आप के नाम —- जयश्री विनु मरचंट


  • १.   मिटा सको तो…

मिटा सको तो मिटा दो सारे शिकवे गिले!
वक्त बह रहा है फिर हम तो मिले न मिले!

किसे पता अबके बरस बसंत आये तो भी
आपके जानेके बाद, फूल खिले न खिले!

है बस ईतनीसी बात, आपसे नजरें मिली
और फसानो के शुरु हो गये ये सिलसिले!

रात महक उठी है, शायद आप आयें होंगे!
नहीं तो ना होती ये सितारों की झिलमिले!

“शबाब” रोशनी से  तो न था रिश्ता जीते जी
मोत पे देख लो कितने आँसु के हैं दीप जले।

–       जयश्री विनु मरचंट, “शबाब”

  • २.   ईतना बडा..!

वो ही करेंगे फरेब हमसे, वो भी ईतना बडा?
होकर अपना देंगे धोका, वो भी कितना बडा?

सांसोकी सरगम छेडे तराना जिनके नामका,
वो ही कैसे बन  गये जिंदगीमें फितना बडा?

हार चुके दिल-ओ-दिमाग उन पर और वो ही,
पूछे हैं हमें, प्यारमें है हारना या जीतना बडा?

ईस जहांमें ढूंढने चले दोस्त, था पता फिर भी,
खुदासे बढकर यहां होगा कोई भी मीत ना बडा!

संगदिल हैं अपने, संगेमरमर का ये बूतखाना,
फिर क्युं फूटफूट कर रोना और चिखना बडा?

     –      जयश्री विनु  मरचंट, “शबाब”

  • ३.  अब के बरस….!

न जाने वो, क्युं नहीं मिलते, अबके बरस!
चमनमें भी फूल नहीं खिलते, अबके बरस!

जखम लगते, और वक्त उसे भर देता था!
क्या कहें, घाव भी नहीं भरते, अबके बरस!

सुना था, माली आकर संवारेंगे सारा चमन ,
पर रकीब आ गये भेष बदलके, अबके बरस!

बिजली गिरे और चमन जले तो भी समजे!
बहारमें ख़ाक हुआ चमन जलके अबके बरस!

मिलनके लम्होंसे फिर महेकेगी सारी फ़िज़ा
“शबाब” उम्मीदसे है जिंदा रहतें अबके बरस!

–  जयश्री विनु मरचंट “शबाब”

  • ४.  युं तो कोई वजह न थी…!

युं तो कोई भी वजह ही न थी आप के ना आने को!
दिल रखने को ही सही, कह देते किसी बहानेको!

आप से क्या गिले शिकवे, आप तो  अपने नहीं!
मेरे रंजोगम से क्या लेना-देना कोई  बेगानेको?

सैलाबे-अश्क  बहा गये, मेरे घर की हर वो हंसी!
बरसों से जो चुभती थी ना जाने कितनी जमानेको!

आधीअधूरी दास्तां की तरह, छोडो नहीं ये रिश्ता!
चाहो तो मिटा दो या कर दो पूरा ईस फसानेको!

नापातोला युं प्यार या रिश्ता, हमें तो गंवारा नहीं!
हम हैं वो हैं, ढूंढ लो किसी ओरको आजमानेको!

      –    जयश्री विनु मरचंट, “शबाब

3 thoughts on “चंद अशआर आप के नाम —- जयश्री विनु मरचंट

  1. मा जयश्री विनु मरचंट, “शबाब”जी आपकी करुण रस प्रधान काव्योको पठ क्रर एक कसकसी हुइ,सांखे नम हुइ
    बाद करुण रस विगलीत हो कर मन प्रसन्न हुआ. मेरी छोटी बहनका वैधव्य शुरुमें आघातजनक था बादमें संभल जानेके बाद आप जैसे बडे बडे काम कीये
    याद
    जिन राहों पर हम-तुम संग थे
    वो राहें ये पूछ रही हैं
    कितनी तन्हा बीत चुकी हैं
    कितनी तन्हा और रही है
    दिल दो हैं, ज़ज्बात अकेले
    क्या हम तुमको बतलायें..?

    Liked by 1 person

પ્રતિભાવ

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  બદલો )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  બદલો )

Connecting to %s